Gupt Dynasty or Gupta Empire | गुप्त वंश या गुप्त साम्राज्य

गुप्त वंशभारत में गुप्त वंश का उदय 3rd  सदी के अन्त में प्रयाग के निकट कौशाम्बी में हुआ था।


1. श्री गुप्त-
➯Bharat  में गुप्त वंश की स्थापना श्री गुप्त ने की थी इसीलिए श्री गुप्त को गुप्त वंश का संस्थापक कहते है।
➯श्री गुप्त ने अपने Rajdhani  अयोध्या को ही बनाया था।
➯अयोध्या Sarsu River  के किनारे स्थित है।
➯Maharaja की उपाधि sabse Pahle  श्री गुप्त ने ही धारण की थी।
➯Shri Gupt  को गुप्तों का आदिराज भी कहते है।

2. घटोत्कच-
➯घटोत्कच श्री गुप्त का पुत्र था।
➯Shri Gupt  के बाद गुप्त वंश का अगला शासक घटोत्कच बना था।

3. चन्द्रगुप्त-I
➯चन्द्रगुप्त प्रथम घटोत्कच का पुत्र था।
➯Ghatotkach के बाद गुप्त वंश का अगला शासक चन्द्रगुप्त प्रथम बना था।
➯महाराजाधिराज की उपाधि सर्वप्रथम Chandra Gupt  प्रथम ने ही धारण की थी।
➯Gupt  वंश का वास्तविक संस्थापक Chandra Gupt प्रथम को माना जाता है।

राजा रानी के सिक्के-
➯Bharat  में सर्वप्रथम रानी की याद में सिक्के चलाने वाला पहला शासक Chandra Gupt प्रथम था।
➯Chandra Gupt  प्रथम ने अपनी रानी कुमार देवी की याद में सिक्के चलाये थे उन सिक्कों को राजा रानी के सिक्के कहा गया था।

गुप्त संवत-
➯गुप्त संवत 319 ई. में Chandra Gupt प्रथम के द्वारा शुरू किया गया था तथा गुप्त संवत को वल्लभी संवत् भी कहते है।

गुप्त संवत-
➯शक संवत कुषाण वंश के Raja कनिष्क के द्वारा 78 ई. में शुरू किया गया था।
➯Gupta era and Saka era  के बीच 241 वर्षो का अन्तर पाया जाता है।

प्रभावती-
➯Chandra Gupt प्रथम की Putri का नाम प्रभावती गुप्त था।
➯प्रभावती गुप्त भारत की प्रथम Hindu Mahila शासिका मानी जाती है।


4. समुद्रगुप्त-
समुद्रगुप्त Chandra Gupt प्रथम का पुत्र था।
समुद्रगुप्त ने कवीराज की उपाधि धारण की थी।
Samundra Gupt को 100 युद्धों का विजेता भी कहते है।
अश्वमेध यज्ञ सर्वप्रथम समुद्रगुप्त ने ही करवाया था।
अंग्रेजी इतिहासकार विन्सेंट स्मिथ ने अपनी पुस्तक भारत का प्रारंभिक इतिहास (The Early History of India) में समुद्रगुप्त को भारत का नेपोलियन कहा था।
Samundra Gupt के दरबारी इतिहासकार हरिषेण के द्वारा ही प्रयाग प्रशस्ति लिखी गई है।
प्रयाग प्रशस्ति में Samundra Gupt की प्रशंसा की गई है।

एरण अभिलेख-
➯Arch record  समुद्रगुप्त से संबंधित है।
➯Arch record  में Bharat  में पहली बार सत्ती होने के प्रमाण प्राप्त हुआ है।
➯Arch record  में समुद्रगुप्त के सैनापती भानुगुप्त की पत्नी के द्वारा सत्ती होने का प्रमाण मिलता है।

5. चन्द्रगुप्त-II
➯Chandra Gupt द्वितीय समुद्रगुप्त का पुत्र था।
➯Chandra Gupt द्वितीय ने अपने बड़े भाई रामगुप्त की हत्या करके गुप्त वंश की गद्दी प्राप्त की थी।

Chandra Gupt द्वितीय के द्वारा धारण की गई उपाधियां-
1. देवराज/ देवगुप्त
2. परमभागवत
3. विक्रमाद्वित्य
4. शकारी

नवरत्न-
➯Chandra Gupt द्वितीय के दरबार में 9 विद्वानों की मण्डली रहती थी जिन्हें नवरत्न कहते थे।
➯Chandra Gupt द्वितीय के दरबारी नवरत्नों में Kalidas, Betalabhatta, Varahamihira, Dhanvantari  प्रमुख नवरत्न थे।

कालिदास-
➯Kalidass भारत के सुप्रसिद्ध उपन्यासकार थे।
➯Kalidass  को भारत का शेक्सपियर भी कहा जाता है।
➯Kalidass  के द्वारा रचित प्रमुख ग्रंथ-
1. रघुवंशम्/ रघुवंश
2. कुमारसंभवम्/ कुमारसंभव
3. मालविकाग्रिमित्रम्
4. अभिज्ञान शाकुंतलम्
5. मेघदूतम्

धन्वन्तरी-
➯धन्वन्तरी Chandra Gupt द्वितीय के दरबारी चिकित्सक थे।
➯धन्वन्तरी को Indian चिकित्सा का Janak भी कहते है।

महरौली स्तंभ-
➯महरौली स्तंभ दिल्ली में स्थित है।
➯महरौली स्तंभ Metals and chemicals  कला का सर्वोच्च उदाहरण माना जाता है। क्योकी महरौली स्तंभ पर आज तक जंग नही लगा है।

ताम्रलिप्ति बंदरगाह-
➯ताम्रलिप्ति बंदरगाह गुप्त काल का सुप्रसिद्ध बंदरगाह था।

फाह्यान-
➯Bharat में आने वाला प्रथम Chini  यात्री फाह्यान ही था।
➯फाह्यान Chandra Gupt द्वितीय के काल में भारत आया था।

फो-यू-की-सी-
➯फो-यू-की-सी Book  फाह्यान के द्वारा Likhi गई थी।
➯फो-यू-की-सी Book में गुप्त वंश के History का पता चलता है।

ब्राह्मणों का देश-
➯फाह्यान ने मध्य प्रदेश को ब्राह्मणों का Desh कहा था।

कौड़ियां-
➯फाह्यान के अनुसार Bharat या गुप्त काल में लेन देन या व्यापार के रूप में सर्वाधिक उपयोग कौड़ियों का ही होता था।

विक्रम संवत-
➯विक्रम संवत 57 ई. में Chandra Gupt द्वितीय के द्वारा शुरू किया गया था।

6. कुमारगुप्त-
➯Kumar Gupt  को परमभट्टारक तथा महेन्द्रा द्वितीय के नाम से भी जाना जाता है।
➯गुप्त शासकों में सर्वाधिक Record कुमार गुप्त के ही है।

नालंदा विश्वविद्यालय-
➯नालंदा विश्वविद्यालय विश्व का प्रथम आवासीय विश्वविद्यालय था।
➯नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना कुमारगुप्त ने की थी।
➯Nalanda University  बिहार की राजगीर नामक Place  पर स्थित है।
➯नालंदा विश्वविद्यालय बौद्ध शिक्षा के लिए प्रसिद्ध था।

7. विष्णुगुप्त-
➯Vishnu Gupt गुप्त वंश का अंतिम शासक था।

Post a comment

0 Comments